उत्तर प्रदेश के रायबरेली में विषैली गैस से हुई 2 की मौत,10-10 लाख का देंगे मुआवजा बोले-DM... - eaglenews24x7

Breaking


उत्तर प्रदेश के रायबरेली में विषैली गैस से हुई 2 की मौत,10-10 लाख का देंगे मुआवजा बोले-DM...

उत्तर प्रदेश के रायबरेली में विषैली गैस से हुई 2 की मौत,10-10 लाख का देंगे मुआवजा बोले-DM...

विक्की झा।।29 मार्च की रायबरेली में सफाई कर्मचारियों के साथ जो हुआ वह सुनकर आप चौक जायेंगे,सूत्रों के अनुसार रायबरेली में एक शिविर टैंक की सफाई करते वक्त टैंक में उतरे दोनों कर्मचारियों की जहरीली गैस के मृत्यु हो गई।शिविर टैंक साफ करते वक्त,दोनों सफाई कर्मचारी जहरीली विषैली गैस टैंक के भीतर उतरे थे,मेनहॉल में सफाई के दौरान जहरीली गैस इतनी ज्यादा हो गई कि,दम घुटने के कारण दोनों सफाई कर्मचारियों की कुछ समय तड़पने के बाद वही मौत हो गई।

वारदात की खबर मिलने के तुरंत बाद पुलिस प्रशासन और दमकल विभाग की एक टीम फंसे हुए कर्मचारियों को बाहर निकालने के प्रयास में जुट गई,लगातार डेढ़ घंटे की कठिन मशक्कत के बाद रेस्क्यू टीम ने उन दोनों कर्मचारियों को टैंक से बाहर निकाल अस्पताल ले जाने के लिए एंबुलेंस में डाल दिया,पर शायद तब तक बहुत देर हो चुकी थी।


सूत्रों के अनुसार मृतकों में शामिल एक श्रमिक मथुरा वृंदावन से वही दूसरा श्रमिक राजस्थान का निवासी था,हालांकि अभी इस मामले में किसी को भी संदिग्ध रूप से दोषी नहीं ठहराया जा सकता,फिर भी जल निगम के JE सुरेंद्र यादव की गलती श्रमिकों के परिजनों द्वारा बताए जाने पर उनके खिलाफ FIR दर्ज कर ली गई है,मामले की खबर सोशल मीडिया पर फैलने के बाद से ही यह मामला उत्तर प्रदेश में काफी चर्चा का विषय बन गया है,जहां अब तो स्वयं रायबरेली के डीएम वैभव श्रीवास्तव ने घटने का जायजा लेते हुए सभी मृतकों के प्रति शोक जताते हुए कहा कि," रायबरेली में STP टेस्टिंग/सफ़ाई के दौरान घटी दुर्घटना में मृत मज़दूरों के परिवारीजन को 10 -10 लाख के चेक प्रदान किये गए हैं।मुख्यमंत्री द्वारा शोक संतृप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की गयी है।सम्बंधित JE सुरेंद्र यादव को निलम्बित करते हुए दोषी फ़र्म व कर्मचारियों के विरुद्ध FIR दर्ज करायी गयी है।" इस प्रकार की तत्कालीन घोषणा डी.एम ने खुद जनता के बीच जाहिर की है। 


वहीं कुछ ऐसे भी विपक्षी नेता है,जो इस मुद्दे को सरकार से जोड़कर इसे बड़ा बनाना चाहते हैं, और उत्तर प्रदेश सरकार पर सीधे-सीधे निशाना साधते हुए,कब तक सफाई कर्मचारी यूं ही अपनी जान गवाते रहेंगे??? क्या सरकार इसका कोई इलाज या समाधान नहीं निकालेगी???ऐसा आरोप लगाते पाए जा रहे हैं,वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री स्वयं योगी आदित्यनाथ ने इस घटना के प्रति दुख जताते हुए सभी मृत व्यक्तियों के लिए शोक प्रकट किया हैं,और मामले की पूरी बारीकी से जांच करने का आश्वासन भी दिया हैं।