जबलपुर रेलवे भर्ती को लेकर कोच आनंद और पवन ने मांगा 11 लाख घूस,ना देने पर किया मेरिट से बाहर.... - eaglenews24x7

Breaking


जबलपुर रेलवे भर्ती को लेकर कोच आनंद और पवन ने मांगा 11 लाख घूस,ना देने पर किया मेरिट से बाहर....

जबलपुर रेलवे भर्ती को लेकर कोच आनंद और पवन ने मांगा 11 लाख घूस,ना देने पर किया मेरिट से बाहर...

विक्की झा।।भारतीय रेलवे या किसी भी सरकारी नौकरी में भर्ती को लेकर चल रही जालसाजी घूसखोरी तो हम हमेशा से देखते रहते हैं,पर इस बार सामने आया मुद्दे ने तो लगभग सारी हदें ही पार कर दी,जहां एक गुरु(कोच)ने स्पोर्ट्स कोटा के तहत रेलवे में भर्ती लेने आए बच्चे का भविष्य उसकी काबिलियत को देखकर नहीं बल्कि,उसके पास मौजूद पैसों को देखकर लगाया हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें,सूत्रों के अनुसार यह वारदात मध्य प्रदेश के जबलपुर की है,जहां उड़ीसा असम से आए कन्नू चरण साहू नाम के लगभग 22 वर्षीय लड़के ने जबलपुर रेलवे कोटा में अभ्यर्थियों की जांच कर भर्ती लेने वाले दो कर्मचारी कोच आनंद पटेल और पवन पर सीधा-सीधा 11 लाख घूस मांगने और घुस ना देने पर भर्ती रुकवा देने का जैसा संगीन आरोप लगाया है।


सूत्रों के अनुसार अभी हाल ही में "सेंट्रल रेलवे" में स्पोर्ट्स कोटा के तहत 73 किलोग्राम वजन की भर्तियां निकली थी,इन्हीं में से एक भर्ती पत्र पर आवेदन किया था कन्नू चरण साहू ने,,कन्नू का कहना है कि,वह इस भर्ती को लेकर 24 फरवरी को जबलपुर आया था,जहां उसने कोच द्वारा लिए गए सभी टेस्ट स्कोर सफलतापूर्वक पास ही नहीं,बल्कि उसमें पहले नंबर की जगह भी प्राप्त की थी। 


जिसके बाद टेस्ट लेने वाले दोनों कोच आनंद पटेल और पवन ने कन्नू को अकेले में बुलाकर उसे 11 लाख रुपए की राशि शीघ्र अति शीघ्र जमा करने को कहा था,अगर वह ऐसा नहीं करेगा तो,उसे रेलवे भर्ती का सपना छोड़ वापस अपने घर जाना होगा इसकी चेतावनी भी कोच ने उसी वक्त दी थी,कोच की ऐसी बात सुनकर कन्नू चरण साहू की आंखों में आंसू आ गए और वह वहां अपने परिवार की गरीबी की दुहाई देकर,अपने काबिलियत के दम पर खुद का सिलेक्शन करवाना चाहता था,पर कोच आनंद और पवन ने उसकी एक न सुनी।

हमारे संवाददाता से हुई बातचीत में कोच आनंद पटेल ने कन्नू चरण साहू द्वारा लगाए सभी इल्जामों को झूठा बताते हुए कन्नू का सिलेक्शन ना होने की वजह उसका टेस्ट में पास ना होना बताया है कोच का कहना है कि पास ना होने की वजह से कन्नू चरण साहू इस तरह का घिनौना इल्जाम दोनों कोच पर लगा रहा हैं।

हालांकि अब इस घटना में कितनी सच्चाई है,यह तो वक्त ही बताएगा,फिर भी कन्नू चरण साहू ने वीडियो फुटेज की जांच कर उस दिन के उसके टेस्ट को बारीकी से जांच करने को कहा है,और साथ ही यह भी देखने को कहा है कि,अगर वह गलत है तो उसे सजा जरूर मिले पर अगर गलती कोच की हैं तो वह चुप नहीं रहेगा,इस जालसाजी के खिलाफ वह आवाज उठाता रहेगा, हालांकि उसने इस घटना की खबर जबलपुर में स्थित सभी उच्च आयुक्त अधिकारियों जैसे रेलवे बोर्ड,रेल्वे मिनिस्टर,जी.एम, ए.जी.एम के कार्यालय में एक शिकायत पत्र के रूप में पहुंचवा दिया हैं।


अब यह तो वक्त ही बताएगा कौन सच है और कौन झूठ पर अगर यह बच्चा सच है तो क्या इस बच्चे को इंसाफ मिल पाएगा और क्या कभी इस देश के काबिल युवाओं को उनकी काबिलियत के दम पर नौकरी मिल पाएगी बिना घुस और बिना किसी आरक्षण के...?