आपके भी विवाह में अगर आ रही है बाधाएं,मात्र तीन बृहस्पति वार को करें यह उपाय... - eaglenews24x7

Breaking


आपके भी विवाह में अगर आ रही है बाधाएं,मात्र तीन बृहस्पति वार को करें यह उपाय...

आपके भी विवाह में अगर आ रही है बाधाएं,मात्र तीन बृहस्पति वार को करें यह उपाय...

विक्की झा।।हिंदू शास्त्रों के हिसाब से गुरुवार के दिन को बृहस्पति वार,वीरवार या बीफे भी कहा जाता है।गुरुवार के दिन का सीधा संबंध भगवान विष्णु अर्थात बृहस्पति देव से किया जाता है,इस दिन केले की जड़ में जल चढ़ाकर पूजन करने से सभी क्लेश दूर होते हैं,और धन का लाभ होता है।


किसी भी व्यक्ति की कुंडली में अगर गुरु दोष पाया जाता है,तो उसे हिंदू शास्त्र के हिसाब से बृहस्पतिवार का व्रत अवश्य करना चाहिए,इससे उसके सभी क्लेश और बाधाएं दूर हो जाते हैं। बृहस्पति देव को ज्ञान और बुद्धि का देवता माना जाता है,इसीलिए बृहस्पतिवार के दिन व्रत करने से इंसान के मानसिक विकास की संभावनाएं और बढ़ जाती है।गुरुवार का दिन किसी भी शुभ काम को शुरू करने के लिए अत्यंत लाभदायक सिद्ध हो सकता है,इसीलिए विवाह या किसी भी मंगलमय काम में आ रही बाधाओं को गुरुवार के दिन सुलझाने की कोशिश जरूर करनी चाहिए।


अगर उम्र बीत जाने के बाद भी किसी व्यक्ति के जीवन में किन्हीं कारणों से विवाह का योग्य नहीं बन रहा है,तो उसे गुरुवार का व्रत अवश्य रखना चाहिए, इससे उसकी कुंडली में आ रही विवाह को लेकर सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं,और अच्छे जीवन साथी की प्राप्ति होती है,मात्र तीन बृहस्पतिवार सच्चे मन से विष्णु भगवान की पूजा,केले की जड़ में कर,प्रसाद में चना गुड़ चढ़ाने से कुंडली में विवाह के योग्य को लेकर आ रही बाधाएं समाप्त होने लगती हैं। 


गुरुवार के दिन बृहस्पतिवार का व्रत और कथा करने से दरिद्रता दूर होती है।जिस किसी घर में धन का अभाव हो,वहां की महिला को गुरुवार का व्रत अवश्य करना चाहिए और साथ ही उस दिन कई प्रकार के संयम भी बरतनी चाहिए,जैसे केसों को ना धोना,पीला भोजन करना,भोजन में मांस का परहेज करना,सर्फ साबुन का इस्तेमाल ना करना इन सभी नियमों का ध्यान पूर्वक पालन करने से और बृहस्पति देव की कथा सुनने और सुनाने से धन और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है।