कोरोना कि जांच के डर से लोग जान हथेली पर रख नावों से वाहन सहित कर रहे हैं नर्मदा पार,पढ़े पूरी खबर..... - eaglenews24x7

Breaking

कोरोना कि जांच के डर से लोग जान हथेली पर रख नावों से वाहन सहित कर रहे हैं नर्मदा पार,पढ़े पूरी खबर.....

वन ग्राम जोगा में कोरोना कि जांच के डर से लोग जान हथेली पर रख नावों से वाहन सहित कर रहे हैं नर्मदा पार........ 


राजस्व और पुलिस विभाग ने वन ग्राम जोगा नर्मदा घाट का किया औचक निरीक्षण..... 

तहसीलदार डॉ अर्चना शर्मा एवं हंडिया टीआई एस सी,सरियाम ने वन जोगा के नर्मदा घाट जाकर औचक निरीक्षण किया,मौके पर नाव से उतरते हुए कोई यात्री नहीं मिले।फिर तहसीलदार डॉ.शर्मा ने नाव से पार उतारने वाले नाविकों व ग्रामीणों से चर्चा कर उनकों सख्त चेतावनी दी कि वो उस पार से आने वाले व्यक्तियों को बिल्कुल अपनी नाव से हरदा जिले में प्रवेश न कराए वरना कढ़ी दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।

इस संबंध में राजस्व निरीक्षक संतोष पथोरिया ने चैनल से चर्चा करते हुए बताया है कि इस वक्त कोरोना का संक्रमण चरम पर है ऐसे में इंदौर से आने वाले कई यात्रियों को सर्दी जुखाम,बुखार इत्यादि रहता जो जगह जगह बनाये गए चैकपोस्ट पर कोरोना जांच की डर की वजह से नेशनल हाईवे से ना आकर ये सार्टकट रास्ते से आते-जाते हैं।इससे आप व आपके गांव वाले भी संक्रमित हो सकते हैं और नाव से दो पहिया चार पहिया वाहनों सहित यात्रियों को पार उतारने में कभी भी कोई बड़ी दुर्घटना हो सकती हैं इस पर सभी नाविको ने तहसीलदार की बात मान ली और नाव मालिक व ग्रामीणों निर्णय लिया कि हमारे गांव में अभी तक कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति नहीं है इसलिए सुरक्षा की दृष्टि से अब हम वन ग्राम को नर्मदा नदी के घाट पर बैरिकेड लगाकर बन्द कर देंगे। 


उधर कुछ ग्रामीणों ने दबी आवाज में तहसीलदार व थाना प्रभारी को बताया कि कुछ शराब जैसे अवैध धंधा करने वाले लोग भी इस रास्ते से आना जाना करते हैं।टीम ने हंडिया से जोगा रोड पर पड़ने वाले एक दर्जन ग्राम जिसमें मालपौन, गोला,माँगरूल,ढेकी,सगोदा,सिगौन,नयापुरा, उँचान,भीमपुरा चीराखान,साल्याखेड़ी व जोगाकलां का दौरा कर ग्रामीणों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए मास्क लगाने व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने व सर्दी,जुखाम,खांसी,बुखार आने पर तुरन्त उपचार व जांच कराने हेतु समझाइस दी ग्राम पंचायत सचिव,रोजगार सहायक,आंगनबाड़ी कार्यकर्ता,सहायिका,आशा कार्यकर्ता व कोटवारों को सर्दी खांसी,बुखार वाले लोगों का डोर टू डोर सर्वे करने हेतु निर्देशित किया।