बादलों में छुपा चांद, 20 मिनट देरी से हुआ दीदार, फिर अर्घ्य दिया और पूजन के बाद पति के हाथ से पीया जल - eaglenews24x7

Breaking

बादलों में छुपा चांद, 20 मिनट देरी से हुआ दीदार, फिर अर्घ्य दिया और पूजन के बाद पति के हाथ से पीया जल


ग्वालियर, करवाचौथ पर पंजाबी परिषद की महिलाओं ने सामूहिक कार्यक्रम आयोजित किया, जिसमें महिलाओं ने कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए पूजा-अर्चना की।

शहर के विभिन्न सामाजिक संगठनों ने आयोजित किए सामूहिक आयोजन

पति की लंबी आयु की कामना कर बुधवार को दिनभर निर्जला व्रत रहने के बाद महिलाओं ने शाम को चांद देखने के बाद ही पानी पीकर व्रत खोला।

करवाचौथ के चंद्रमा का उदय 8.14 बजे हआ, लेकिन बादलों की ओट की वजह से चांद के दर्शन 20 मिनट देरी से हुए। शहर में विभिन्न सामाजिक संगठनों ने सामूहिक रूप से करवाचौथ पूजन के कार्यक्रमों का आयोजन किया था।

बुधवार को मृगशिरा नक्षत्र और सर्वार्थ सिद्ध योग में करवाचौथ मनाया गया। मान्यता है कि सर्वार्थ सिद्ध योग में करवाचौथ होने से व्रत करने वाली महिलाओं की मनोकामना जल्दी ही पूरी होती है।

पंजाबी परिषद की महिलाओं ने किया सामूहिक करवाचौथ पूजन

करवाचौथ पर पंजाबी परिषद समिति की महिलाओं ने जयेंद्रगंज में आनंद निवास पर सामूहिक करवाचौथ पूजन का कार्यक्रम आयोजित किया गया।

संगठन के मुख्य परामर्शदाता कुलवीर भारद्वाज, अध्यक्ष अशोक मारवाह, महिला अध्यक्ष मधु भारद्वाज एवं जीके सूरी, रमी आनंद ने बताया कोरोना महामारी को देखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सभी ने मास्क लगाकर पूजा की। इस मौके पर कार्यक्रम में मधु भारद्वाज, रम्मी आनंद, प्रमिला मारवाह, रीना गंदोत्रा, सिम्मी कुकरेजा आदि मौजूद थीं।

केंद्रीय जेल में करवाचौथ पर महिला बंदियों के लिए हुईं प्रतियोगिताएं

केंद्रीय जेल में कोविड 19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए बिमटेक फाउण्डेशन (रंगनाथन सोसायटी) ने महिला बंदीगृह की महिलाओं के लिए विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया।

फाउंडेशन की संध्या राममोहन त्रिपाठी के मुताबिक वंदना दीक्षित की देखरेख में दीपक व करवा सजाओ व मेंहदी लगाओ व सजाओ व भगवान की छोटी पोशाकें बनाने की प्रतियोगिताएं आयोजित की गई ।

प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान पर आईं प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया। करवाचौथ के अवसर पर सभी 88 महिलाओं के लिए पूजा की सामग्री करवा, कलेंडर के अलावा शृंगार की पूरी सामग्री चूड़ियां, बिछिया, मंगलसूत्र, मेहंदी, महावर, सिंदूर,नेल पॉलिश व मिष्ठान आदि का वितरण किया गया।