रतलाम के जिला अस्पताल में जन्मा दो मुंह वाला बच्चा,बच्चे को बचाने जाना पड़ा इंदौर... - eaglenews24x7

Breaking


रतलाम के जिला अस्पताल में जन्मा दो मुंह वाला बच्चा,बच्चे को बचाने जाना पड़ा इंदौर...

रतलाम के जिला अस्पताल में जन्मा दो मुंह वाला बच्चा,बच्चे को बचाने जाना पड़ा इंदौर...

विक्की झा।।मध्यप्रदेश के रतलाम जिला जावरा नीम चौक से आ रही नवजात शिशु के जन्म की खबर आपके होश उड़ा कर रख देगी,जहां हिंदू नव वर्ष की शुरुआत के कुछ देर बाद ही रतलाम जिले के अस्पताल में एक अनोखे बच्चे का जन्म हुआ,आपकी जानकारी के लिए बता दे,इस बच्चे के दो सर और तीन हाथ हैं। जन्म के कुछ समय पश्चात ही रतलाम जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने बच्चे की स्थिति को देखते हुए उसे तुरंत इंदौर के एमवाई हॉस्पिटल में भर्ती करने के लिए रेफर किया है।


नवजात शिशु को सांस लेने में परेशानी होने के कारण इस वक्त उसे इंदौर के एमवाई हॉस्पिटल के आईसीयू वार्ड में भर्ती किया गया है। इस दो सिर और तीन हाथ वाले बच्चे की हालत गंभीर देख कर,अस्पताल में बच्चे को सीनियर डॉक्टर द्वारा ऑब्जर्वेशन में रखा गया है,जबकि बच्चे की मां प्रसव के बाद भी इस वक्त तक रतलाम जिला के अस्पताल में ही भर्ती है।


हमारे संवाददाता से हुई बातचीत में डॉक्टर ने इसे मेडिकल साइंस का एक चमत्कार बताया हैं,डॉक्टरों का कहना है,नवजात शिशु के जन्म के समय उत्पन्न हुई इस प्रकार की परिस्थितियों को "पोलीसेफली"कंडीशन कहा जाता है।डॉक्टरों ने बताया कि करोड़ों में से कुछ ही केस ऐसे अद्भुत केस देखने को मिलते हैं।


इसके बाद जब हमारे संवाददाता ने उस दो सर और तीन हाथ वाले नवजात बच्चे के पिता सोहेल खान से बात करना चाहा तो सोहेल खान ने बताया कि,गर्भावस्था के दौरान जब डॉक्टर ने बच्चे की स्थिति जांचने के लिए सोनोग्राफी करने की सलाह दी थी,उस समय जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने सोनोग्राफी में जुड़वा बच्चा होने की बात कही थी,हालांकि उस वक्त सोहेल और उसके परिजनों को पता नहीं था कि,बच्चा ऐसा होगा।


आपकी जानकारी के लिए बता दे,सोहेल खान जावरा के नीम चौक में बसे एक मध्यमवर्गीय परिवार से ऑटो रिक्शा चलाने का काम करता है,अपने नवजात शिशु को इस हालत में देखने के बाद से ही मानो पिता सोहेल के तो होश ही उड़ गए,वह बस इस वक्त उस बच्चे की जान की दुआ मांग रहा हैं,भगवान से...


हालांकि इसी प्रकार का केस 2017 में भी सामने आया था,जहां एक महिला ने दो सर और 3 हाथ वाले बच्चों को जन्म दिया था, हालांकि इस बच्चे का दिल,फेफड़ा, किडनी और लिंग यह सब एक ही थे,फिर भी वह बच्चा अत्यधिक दिनों तक अपने प्राणों को बचा नहीं पाया,और जन्म के दूसरे ही दिन उसकी मृत्यु हो गई हम भगवान से दुआ करेंगे शायद इस बार प्रकृति द्वारा जन्मे इस अद्भुत बच्चे को भगवान लंबी उम्र प्रदान करें।