परिवार का मुखिया रजिस्ट्री का इंतजार करते -करते परलोक चला गया लेकिन आज भी उसका परिवार न्याय के लिये परेशान... - eaglenews24x7

Breaking


परिवार का मुखिया रजिस्ट्री का इंतजार करते -करते परलोक चला गया लेकिन आज भी उसका परिवार न्याय के लिये परेशान...

परिवार का मुखिया रजिस्ट्री का इंतजार करते -करते परलोक चला गया लेकिन आज भी उसका परिवार न्याय के लिये परेशान...


गरीबों को धोखे में रखकर उनका खून चूसने वालों की कमी नहीं है....?



ऐसे भी लोग आज अमीर होते जा रहे हैं इन लोगों का रसूख कुछ ऐसा होता है कि पीड़ित को कहीं से कोई मदद नहीं मिल पाती....


आखिर पूरा मामला क्या है जानें....

जबलपुर।।आज पुलिस अधीक्षक कार्यालय में ऐसा ही एक मामला देखने में आया है जन -सुनवाई के दौरान जहां पीड़िता सरोज बाई के साथ है पीड़ित सुनील सिंह आये।

इन लोगो ने जनसुनवाई में बैठे अधिकारी को अपनी समस्या से अवगत कराते हुए बताया सन 2017 में सरोज बाई के पति स्व.रामसुजान बर्मन ने शीतल छाया एसोसिएट की मालकिन गीता रावत से प्लाट की रजिस्ट्री कराने का अनुबंध ₹800000/रुपए का करवाया है इस पैसे को पीड़ित परिवार ने किस्तों के तौर पर अनुबंध राशि के अनुसार पूरा पैसा दे दिया है किंतु पूरा पैसा दे देने के बाद भी आज तक पीड़िता के स्वर्गवासी पति के नाम रजिस्ट्री नहीं हुई और रजिस्ट्री का इंतजार करते -करते पीड़िता सरोज बाई के पति अब इस दुनिया में नहीं रहे।पति के अलावा उनका एक बेटा है जो 80 फ़ीसदी विकलांग है एवं दोनों मां बेटे अपने लिए न्याय की उम्मीद लगाए पुलिस अधीक्षक कार्यालय आ पहुंचे।

गीता रावत ने पीड़ित सुनील सिंह से भी उनकी जमीन धोखे से उसने हड़प ली और वह भी न्याय की गुहार लगा रहे हैं।पीड़ित सुनील सिंह के बताये अनुसार इस पूरे मामले की गहराई यहीं तक नहीं है सीमित हम पीड़ित परिवार के अलावा अन्य पीड़ित परिवार की संख्या लगभग 100 से ऊपर है और घोटाले की रकम पांच से सात करोड़ बताई जा रही है।गीता रावत फिलहाल जेल की सलाखों के पीछे हैं उस पर दर्ज कुछ मामलों में उसकी जमानत हो गई है लेकिन कुछ अन्य मामलों में उसकी जमानत नहीं हो पाई है जिसकी वजह से वो अभी -तक जेल की सलाख़ों के पीछे है।अपने लिए न्याय का इंतजार है।जिन लोगों की जमीन उसने धोखे से हड़पी है वो अपनी जमीन के लिए उम्मीद लगाए बैठे हैं और जिन गरीबों को जमीन दिखाकर उसने पैसा हड़पे है।वो गरीब अपनी जमीन की रजिस्ट्री चाह रहे हैं।


वहीं शासन -प्रशासन इस पूरे मामले में अपनी गति से काम कर रहा है एवं उनका कहना है कि वो दिन जरूर आयेगा पीड़ितों को न्याय मिले।


अब देखना है कि सरोज बाई की पति की तरह सभी न्याय से वंचित न रह जाएं.....