कोरोना के संक्रमण को रोकने आक्रामक रणनीति अपनाये कलेक्टर ने दिये स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश - eaglenews24x7

Breaking

कोरोना के संक्रमण को रोकने आक्रामक रणनीति अपनाये कलेक्टर ने दिये स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश


जबलपुर, कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा ने आज शाम आयोजित स्वास्थ अधिकारियों की बैठक में ठंड के दौरान कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ने की जताई जा रही आशंकाओं को देखते हुये सभी जरूरी एहतियात बरतने के निर्देश दिये हैं । श्री शर्मा ने कहा कि हमें न केवल बुजुर्ग और गम्भीर बीमारियों से पीड़ित व्यक्तियों की सेम्पलिंग पर ज्यादा ध्यान देना होगा बल्कि कांट्रेक्ट ट्रेसिंग के पक्ष को और मजबूत बनाना होगा । उन्होंने कोरोना को रोकने आक्रामक रणनीति और प्रो-एक्टिव अप्रोच अपनाने पर भी जोर दिया ।

कलेक्टर ने बैठक में सेम्पल साइज बढ़ाने के निर्देश देते हुये कहा कि ठण्ड में होने वाली तकलीफों के मद्देनजर पचास वर्ष से अधिक आयु के कोरोना पॉजिटिव मरीजों को होम आइसोलेशन के स्थान पर संस्थागत आइसोलेशन में रखा जाये। उन्होंने कण्टेनमेंट जोन के नियमों का सख्ती से पालन करने की हिदायत दी और होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की निगरानी व्यवस्था को प्रभावी बनाने के निर्देश दिये । श्री शर्मा ने कहा कि अभी वक्त है कोरोना संक्रमण को रोकने हम जितनी सख्ती बरत सकते हैं बरती जाये । ताकि बाद में कठिनाइयों का सामना न करना पड़े ।

श्री शर्मा ने स्वास्थ परीक्षण कराने फीवर क्लीनिक आने वाले सर्दी-खाँसी, बुखार और साँस लेने में तकलीफ वाले हर व्यक्ति की अनिवार्य रूप से सेम्पल लेने के निर्देश दिये । उन्होंने कहा कि अन्य बीमारियों से पीड़ित मरीजों तथा पचास से अधिक उम्र के फीवर क्लीनिक आने वाले व्यक्तियों के भी सेम्पल लिये जायें । कलेक्टर ने कोरोना पॉजिटिव मिले व्यक्तियों के परिवार के बुजुर्ग एवं गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ पर लगातार नजर रखने की बात कही ।

उन्होंने कोरोना पर नियंत्रण पाने आक्रामक रणनीति अपनाने पर जोर देते हुये कहा कि सभी सरकारी और निजी अस्पतालों में उपचार के लिये आने वाले गम्भीर रोगों से ग्रसित हर व्यक्ति की सूची प्राप्त की जाये । उनका डेटा संकलित किया जाये और कोरोना कन्ट्रोल रूम से उनके स्वास्थ पर लगातार निगरानी रखी जाये तथा उन्हें कोरोना से बचाव के उपायों को अपनाने लगातार सचेत किया जाये । श्री शर्मा ने कहा कि ठंड के दिनों में बुजुर्ग, बीमार, दस साल से कम उम्र के बच्चों तथा गर्भवती महिलाओं को कोरोना से बचाने क्या उपाय करना है और कौन-कौन सी सावधानियों बरतना है इस बारे में हर माध्यम से सूचना लोगों तक पहुंचाई जाये ।

कलेक्टर ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये बुजुर्ग और बीमार व्यक्तियों को चिन्हित करने, उनके स्वास्थ पर नजर रखने, उनकी काउंसलिंग करने तथा जरूरत पड़ने पर सेम्पलिंग करने के निर्देश दिये । श्री शर्मा ने कहा कि मेडिकल स्टोर्स के संचालकों की भी शीघ्र बैठक बुलाई जाये तथा उन्हें हाइपरटेंशन, डायबिटीज और श्वांस सबंधी रोगों की दवाइयां लेने आने वाले ग्राहकों को कोरोना से बचाव के उपायों की जानकारी देने निर्देशित किया जाये ।

कलेक्टर ने कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने की बताई जा रही आशंकाओं को देखते हुये शासकीय और निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन और आईसीयू बेड की उपलब्धता तथा इनकी संख्या बढ़ाने की दिशा में की जा रही कार्यवाही की समीक्षा भी की । उन्होंने कहा कि बिस्तरों की संख्या और सुविधाओं में विस्तार का कार्य जबलपुर के साथ ही दूसरे जिलों से यहाँ आने वाले कोरोना मरीजों की संख्या को भी ध्यान में रखना करना होगा ।

श्री शर्मा ने कोरोना मरीजों के उपचार के लिये दवाओं की उपलब्धता का ब्यौरा भी बैठक में लिया । उन्होंने फीवर क्लीनिक की निगरानी व्यवस्था को और मजबूत बनाने की हिदायत बैठक में दी । कलेक्टर ने ऑक्सीजन की आपूर्ति पर भी चर्चा करते सप्लाई चेन को और सुदृढ़ बनाने की बात कही । उन्होंने कहा कि 50 बिस्तरों से अधिक क्षमता वाले निजी अस्पतालों को समय रहते एयर सेपरेशन यूनिट लगाने के निर्देश दिये जायें । बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ रत्नेश कुररिया एवं सभी विकासखण्ड चिकित्सा अधिकारी भी मौजूद थे ।