इस्कॉन मंदिर में आज से कर सकेंगे दर्शन - eaglenews24x7

Breaking

इस्कॉन मंदिर में आज से कर सकेंगे दर्शन


जबलपुर, कोविड महामारी के चलते चौकीताल स्थित इस्कॉन मंदिर को श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ बंद कर दिया गया था, लेकिन अब कार्तिक मास के शुभारंभ पर मंदिर को श्रद्धालुओं के लिए 1 नवंबर से फिर पूर्व की भांति खोल दिया गया है। इस संबंध में मंदिर के अदितिपुत्र दास महाराज ने बताया कि सभी वैष्णव भक्त 1 नवंबर पवित्र कार्तिक मास से अब नियमित रविवारीय संकीर्तन एवं प्रसाद कार्यक्रम शुरू किए जा रहे हैं।

जो कि शाम 6 से 8 बजे तक आयोजित किए जाएँगे। मंदिर में आने वाले सभी भक्तजन सरकार के द्वारा बनाए गए नियमों का पालन करते हुए प्रवेश कर सकेंगे। मंदिर में संकीर्तन के साथ-साथ कार्तिक महात्म्य कथा व दीपदान कार्यक्रम होंगे। साथ ही प्रसाद वितरण किया जाएगा।

मंदिर में पहुँचने से पहले भक्त मास्क और सेनिटाइज़र का उपयोग जरूर करें। इसके साथ ही सामाजिक दूरी का भी ध्यान रखें। सर्दी, बुखार से संक्रमित भक्त मंदिर में प्रवेश न करें।

महाराजा अजमीढ़ देव जयंती पर किया पूजन-अर्चन
स्वर्णकार समाज के आराध्य देव महाराजा अजमीढ़ देव जयंती के उपलक्ष्य में महिला मार्केट बल्देवबाग में पूजन-अर्चन किया गया। इस अवसर पर सराफा एसोसिएशन के नवनियुक्त अध्यक्ष राजा सराफ, शेखर सराफ, अनूप अग्रवाल, राजेन्द्र सोनी (कल्लू) एवं पदाधिकारी एवं कार्यकारिणी का स्वागत किया गया। कार्यक्रम में मंजू सोनी, उमा स्वर्णकार, स्नेहलता सोनी, बबीता सोनी, रानी सोनी, माया सोनी, मंजू सोनी, सरिता सोनी, सुरेश सोनी, लक्ष्मन सोनी, डॉ. बीएल सोनी आदि का सहयोग रहा।

महर्षि वाल्मीकि जयंती पर महाआरती एवं दीपदान
वाल्मीकि जयंती पर वाल्मीकि समाज के तत्वावधान में ग्वारीघाट में महाआरती कर दीपदान किया गया। इस अवसर पर अध्यक्ष रूप किशोर चौहान, राजेंद्र गुहेरा, राजेन्द्र पथरोल, बलराम सपेरा, राजेश खरा, विजय गुहेरा, संतलाल खरे, धरमदास बघेल, शंभू कछवाहा आदि उपस्थित रहे।

अखिल भारतीय अनुसूचित जाति युवजन समाज मप्र द्वारा त्रिमूर्ति नगर दुर्गा मंदिर प्रांगण में वाल्मीकि जयंती मनाई गई। कार्यकम में बुर्जुगों का सम्मान किया गया। इस दौरान केएल गुहेरिया ने बताया कि महर्षि वाल्मीकि युगदृष्टा एवं विज्ञान विशारद थे। जिन्होंने समूचे जगत को प्रभु श्री राम की पहचान करवायी। कार्यकम में अनिल गुहेरिया, नारायण बाल्मिक, प्रीतम भांवरे, विजय बाल्मिक, टेकचंद डागौर आदि उपस्थित थे।