961 गाँवों को अब मिलेगी आयुष्मान कार्ड की सौगात, अभियान आज से - eaglenews24x7

Breaking

961 गाँवों को अब मिलेगी आयुष्मान कार्ड की सौगात, अभियान आज से


जबलपुर, जिले के 961 गाँव, जो कि अब तक आयुष्मान कार्ड योजना के लाभ से वंचित थे, इसके लिए महामारी के इस दौर में प्रशासन ने उनकी सुध ली है। सोमवार से विशेष अभियान चलाकर ग्रामीणों को इसका लाभ दिलाया जाएगा। गरीब और आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को इलाज के लिए आयुष्मान कार्ड की सबसे ज्यादा जरूरत थी।

ऐसे समय पर भी उन्हें केन्द्र सरकार की इस योजना का लाभ नहीं मिल पाया। सबसे ताज्जुब वाली बात यह है कि जिले के 961 से ज्यादा गाँव अभी भी ऐसे हैं जहाँ एक भी आयुष्मान कार्ड नहीं बनाया गया है। बाकी के कई गाँव भी ऐसे हैं जहाँ इक्का-दुक्का लोगों के ही कार्ड बने हैं लेकिन उन तक लाभ नहीं पहुँचा।

यहाँ नहीं बने कार्ड
जबलपुर से लगे आसपास के क्षेत्रों के 147 गाँव हैं, जिनमें अधारताल, ऐंठाखेड़ा, बैतला, भटौली, भेड़ाघाट, हाथीताल जैसे क्षेत्र शामिल हैं। इसी तरह कुण्डम के 167 गाँव शामिल हैं, मझौली के 128 गाँव, पनागर के 136 गाँव, पाटन के 141 गाँव, शहपुरा के 160 गाँव व सिहोरा क्षेत्र के 82 से ज्यादा गाँव शामिल हैं। जहाँ एक भी कार्ड नहीं बनाए गए हैं।

कौन ले सकता है लाभ
आयुष्मान कार्ड योजना में गरीब, वंचित ग्रामीण, शहरी श्रमिक और आर्थिक रूप से बेहद कमजोर शहरी परिवार के पात्र व्यक्ति लाभान्वित हो सकते हैं। इसमें 2011 में की गई सामाजिक आर्थिक जाति जनगणना के डेटा बेस में जिन व्यक्तियों के नाम मौजूद हैं, उनको आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के फायदा मिल सकता है। अभी तक स्वास्थ्य विभाग और कुछ निजी अस्पतालों में कार्ड बनाने का काम किया जा रहा था। अब लोकसेवा केन्द्रों से कार्ड बनाने की शुरूआत हो जाएगी। पी-2

जिले के 11 लोकसेवा सेंटरों में आज से बनाए जाएंगे कार्ड
अब जिले के 11 लोकसेवा सेंटरों में भी आवेदन लिए जाएँगे और वहीं आयुष्मान कार्ड बनाने का काम भी किया जाएगा। आयुष्मान कार्ड बनाने की शुरूआत कलेक्ट्रेट स्थित लोकसेवा केन्द्र से सोमवार 9 नवंबर को दोपहर 12 बजे कलेक्टर करेंगे।

तैयारी पूरी हो गई है
^ आयुष्मान कार्ड लोकसेवा केन्द्रों से बनाने के आदेश मिले हैं, इस दिशा में हमारी तरफ से तैयारियाँ कर ली गई हैं। सोमवार से विधिवत इसकी शुरूआत हो जाएगी और आने वाले समय में सभी केन्द्रों से यह सुविधा मिलेगी। जिन गाँवों में कार्ड नहीं बने हैं, वहाँ भी पात्र लोगों के कार्ड बनाने का काम पूरा किया जाएगा ताकि लोगों को योजना का लाभ मिल सके।