पति के स्वर्गवास के बाद पत्नि को निकाला गया ससुराल से..... - eaglenews24x7

Breaking


पति के स्वर्गवास के बाद पत्नि को निकाला गया ससुराल से.....

पति के स्वर्गवास के बाद पत्नि को निकाला गया ससुराल से.....

जबलपुर।।जनसुनवाई में पुलिस अधीक्षक कार्यालय में आकर पीड़ित महिला वर्षा दुबे ने अपने साथ हो रहें अत्याचार के विषय मे विस्तापूर्वक जनसुनवाई में बैठें हुये अधिकारी शिवेश सिंह बघेल (अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक)को बताया कि मान्यवर मेरे पति का स्वर्गवास 20/07/2021को नर्मदा नदी में डूबने से हो गया था।मेरे पति के तेरहवीं के दो दिन पहले मेरी सास छाया दुबे और देवर संदीप व आशीष दुबे ने मुझे मारपीट कर घर से बाहर निकाल दिया साथ में मेरे साथ मेरा चार साल का बेटा भी है इस घटना शिकायत मैने कोतवाली थाने में की थी मुझे बोला गया कि आप आपके पति की जो दुकान है उस दुकान को आप खोले लेकिन जब मैने अपनी दुकान खोली तो मेरे देवर और सास द्वारा अभद्र व्यवहार कर गाली- गलौज करते हुये मेरे साथ मारपीट की गई और मुझे दुकान खोलने नहीं दिया गया।

जब eaglenews24x7 ने पीड़ित वर्षा दुबे से पूरा वाक्यांश पूछा तो वर्षा दुबे ने बताया मेरा प्रेम-विवाह सन्न 2013 में धीरेंद्र कुमार दुबे के साथ सर्वसम्मति से हुआ था,मेरी शादी के कुछ समय बाद मेरे साथ मारपीट कर और मुझे दहेज के लिये प्रताड़ित किया गया उस वक्त में गर्भवती थी जिस की वजह से मेरा गर्भपात हो गया इसकी रिपोर्ट मेरे द्वारा महिला थाने में की गई फिर कुछ सालों के बाद सन 2016 मुझे पुत्र हुआ कुछ समय तक मेरे ससुराल वाले अच्छे रहे कुछ वर्ष बाद सन2020 में मेरी सास,ननद और देवरो ने मेरे साथ मारपीट की यह लोग मेरे पति जब घर मे नहीं रहते तब यह लोग मेरे साथ मारपीट करते थे इसकी भी शिकायत मैने उखरी चौकी में की थी।

इस घटना के बाद मै और मेरा पति किराये के मकान संगम कालोनी में रहने लगे मेरे पति के द्वारा पूरा घर गृहस्थी का सामान खरीदा गया था।लेकिन अचानक से 20 जुलाई2021 को मेरे पति का निधन हो गया मेरा घर गृहस्थी का सामान आज भी उस किराये के मकान में रखा हुआ है उस समान को मेरे ससुराल वाले मुझे लाने नहीं दे रहे है इसलिए में आज पुलिस अधीक्षक कार्यालय आयी हूँ मुझे उचित न्याय मिले और मेरे पति  दुकान निवाडगंज में पान-मसाले की है उसमें समान एवं कुछ नगद पैसे रखे हुये है मेरी सास व ननद और देवर ने मुझे मेरे अधिकारों से वंचित कर दिया है मुझे और मेरे बेटे के जीवन- यापन के लिये कुछ करना होगा आज मैने उचित न्याय की गुहार लगाई है।

जब इस बारे में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शिवेश सिंह बघेल से पूछा तो उन्होंने बताया कि उक्त प्रकरण मेरे संज्ञान में लाया गया है इस प्रकरण को उचित जांच कर कार्यवाही हेतु निर्देशित कर संबंधित थाने में भेज दिया गया है अति शीघ्र अग्रिम कार्यवाही की जायेगी।