गोकुलदास धर्मशाला सहित 4 और स्थानों में शुरू होगी दीनदयाल रसोई - eagle news

Breaking

गोकुलदास धर्मशाला सहित 4 और स्थानों में शुरू होगी दीनदयाल रसोई


कलेक्टर श्री शर्मा की अध्यक्षता में जिला स्तरीय समन्वय एवं अनुश्रवण समिति की बैठक संपन्न

जबलपुर, दीनदयाल रसोई योजना के द्वितीय चरण के विस्तार के लिये कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा की अध्यक्षता में आज जिला स्तरीय समन्वय एवं अनुश्रवण समिति की बैठक संपन्न हुई।

कलेक्टर श्री शर्मा ने नगर निगम जबलपुर सीमा क्षेत्र के भीतर दीनदयाल रसोई के लिये चार और स्थानों को चिन्हित करने के निर्देश दिये हैं । श्री शर्मा ने कहा कि रसोई के लिये स्थल के चयन में रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड और बड़े सरकारी अस्पतालों के आसपास की जगह को प्राथमिकता दी जाये, जहाँ गरीबों, मजदूरों और बीमार लोगों के परिजनों का आवागमन ज्यादा होता है ।

कलेक्टर ने बैठक में कहा कि दीनदयाल रसोई का संचालन सामाजिक संगठनों एवं समाज सेवी संस्थाओं के माध्यम से किया जाना है । इसके लिये इच्छुक सामाजिक, धार्मिक, गैर सरकारी संस्थाओं एवं स्वयं सेवी संगठनों से शीघ्र चर्चा कर ली जाये । श्री शर्मा ने योजना के सफल संचालन में दान दाताओं के सहयोग की जरूरत भी बताई । इसके लिये उन्होंने उद्योग विभाग एवं सामाजिक न्याय विभाग के अधिकारियों को उद्योगपतियों, व्यावसायियों एवं दानदाताओं से चर्चा करने के निर्देश दिये ।

बैठक में बताया गया कि रसोई चलाने वाली संस्था भोजन के लिये प्रति व्यक्ति दस रुपये का शुल्क ले सकेगी । जबकि शासन की ओर से प्रति व्यक्ति के मान से पाँच रुपये की अनुग्रह राशि रसोई का संचालन करने वाली संस्था को दी जायेगी । इसी के साथ संस्था को पीडीएस के गेहूँ, चांवल का आबंटन भी जरूरत के अनुसार किया जायेगा ।

बैठक में जानकारी दी गई कि जबलपुर में वर्तमान में गोकुलदास धर्मशाला में दीनदयाल रसोई का संचालन किया जा रहा है । प्रदेश की सभी नगर निगमों में पाँच स्थान पर दीनदयाल रसोई का संचालन करने के शासन के निर्देशानुसार जबलपुर में चार और स्थान रसोई के लिये चिन्हित किये जाने हैं । इसकी प्रक्रिया शुरू भी कर दी गई है ।

बैठक में नगर नियुक्त आयुक्त अनूप कुमार, जिला शहरी विकास अभिकरण के परियोजना अधिकारी दिनेश त्रिपाठी, जिला उद्योग केंद्र के महाप्रबंधक देवव्रत मिश्रा, प्रभारी सयुंक्त संचालक सामाजिक न्याय आशीष दीक्षित एवं खाद्य विभाग के अधिकारी भी मौजूद थे।