कमलनाथ के विवादित बयान पर ज्योतिरादित्य सिंधिया का पलटवार, बोले- कांग्रेस कभी नहीं कर सकती महिलाओं का सम्मान - eaglenews24x7

Breaking

कमलनाथ के विवादित बयान पर ज्योतिरादित्य सिंधिया का पलटवार, बोले- कांग्रेस कभी नहीं कर सकती महिलाओं का सम्मान


भोपाल। | मध्य प्रदेश में जारी उपचुनाव के बीच कांग्रेस नेता कमलनाथ के द्वारा बीजेपी उम्मीदवार को लेकर दिए गए बयान से सियासत गरमा गई है। बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि यह कांग्रेस की नीति है। पहले दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस नेता मीनाक्षी नटराजन को लेकर बोले थे और अब कमलनाथ बीजेपी नेता इमरती देवी के 'आईटम' बता रहे हैं।कमलनाथ ने डाबरा में कांग्रेस उम्मीदवार सुरेश राजे के पक्ष में एक रैली के दौरन बीजेपी उम्मीदवार इमरती देवी के लिए कहा था, 'ये क्या आइटम है'। इसपर पलटवार करते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी कभी महिलाओं का सम्मान नहीं कर सकती है।बीजेपी उम्मीदवार के पक्ष में प्रचार करने पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लोगों से बीजेपी प्रत्याशी के पक्ष में वोट देकर कांग्रेस को सबक सिखाने की अपील ली। सिंधिया ने कहा, 'कमलनाथ कहते हैं कि इमरती देवी एक आईटम हैं। अजय सिंह कहते हैं कि वह जलेबी है। तीन नवंबर को ऐसे लोगों के लिए अपना दरवाजा बंद कर दीजिए।'

महिला मंत्री को लेकर टिप्पणी पर कमलनाथ की सफाई
मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर शब्दों का अनर्थ करने का आरोप लगाते हुए कहा कि इसके जरिए दुष्प्रचार किया जा रहा है। कमलनाथ ने रविवार रात में जारी एक बयान में कहा है कि अभी चुनाव में 15 दिन बचे हैं और शब्दों के अर्थ बदल कर चुनाव जीतने की कोशिश की जा रही है। 
कमलनाथ ने कहा कि जनता पूछ रही है कि 2018 के दृष्टि पत्र में 10 लाख नौकरियां देने का वादा किया गया था, तो इन 7 महीनों में कितनी नौकरियां दीं। उत्तर देने की बजाय शिवराज सिंह चौहान कह रहे हैं कमलनाथ ने आइटम कहा। कमलनाथ ने कहा कि हां मैंने आइटम कहा है क्योंकि यह कोई असम्मानजनक शब्द नहीं है। मैं भी आइटम हूं आप भी आइटम हैं और इस अर्थ में हम सभी आइटम है। कमलनाथ का दावा है कि लोकसभा और विधानसभा में कार्यसूची को आइटम नंबर लिखा जाता है, पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में भी आइटम नंबर लिखा जाता है। क्या यह असम्मानजनक है? मध्य प्रदेश की जनता जब खून के घूंट पी रही है तो उसके आंसू पौंछने की बजाय आपकी पार्टी मेरे कोक पीने को मुद्दा बना रही है।