इंजीनियरिंग कॉलेज में आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश अभियान के अंतर्गत व्याख्यान आयोजित - eaglenews24x7

Breaking

इंजीनियरिंग कॉलेज में आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश अभियान के अंतर्गत व्याख्यान आयोजित


जबलपुर, मध्यप्रदेश तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास के निर्देशानुसार आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश अभियान के अंतर्गत नौवीं से बारहवीं कक्षा के शासकीय स्कूल के विद्यार्थियों के लिये केमेस्ट्री इन ईव्हरी डे लाइफ विषय पर एक व्याख्यान आयोजित किया गया। जिसमें वक्ता प्रो. रूपेश कुशवाह सहा. प्राध्यापक शा. श्याम सुन्दर अग्रवाल, स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिहोरा ने अपना व्याख्यान प्रस्तुत किया।

कार्यक्रम विशेषरूप से ग्रामीण क्षेत्र के शासकीय विद्यालय के विद्यार्थियों के लिये किया गया। जिसमें सिहोरा सकुंल प्राचार्य अशोक उपाध्याय की मदद से पूरे सकुंल के लगभग 250 विद्यार्थीगण जुडें।

कार्यक्रम के कन्वेनर डॉ. कमल कुशवाह ने बताया कि ये कार्यक्रम जे.ई.सी. के विज्ञान क्लब के तहत किया गया है जिसमें दैनिक विजन में रसायन शास्त्र की भूमिका किस प्रकार है, बताया गया है। कार्यक्रम में सर्वप्रथम कार में स्थित एयर बेग, किस प्रकार से कार्य करता है, इनो (ENO) का शरीर पर प्रभाव, आर्द्रता का प्रभाव, कोका-कोला पेय पदार्थों से शरीर में केमेस्ट्री किस प्रकार कार्य करती है दैनिक जीवन में पानी के लिये उपयोग किये जाने वाले आर.ओ. के विषय में बताया गया कि किस प्रकार का पानी पीने योग्य होता है साथ ही दूध का टेस्ट किस प्रकार से किया जाये व उसकी पहचान इत्यादि कई विषयों को स्कूल के विद्यार्थी के समक्ष रखा गया, किस प्रकार BS-4 से BS-6 इंजन वातावरण को प्रभावित करता है एवं कौन-कौन से हानिकारक उत्पाद, कितनी मात्रा और मापदण्ड विस्तार से समझाये गये।

प्राचार्य ए.के. शर्मा ने कहा इस कार्यक्रम का उदेश्य स्कूल के बच्चों में वैज्ञानिक अभिवृत्ति को बढ़ाना है और वे देश के विज्ञान को आगे ले जाने मे सहायक सिद्ध होंगे।

कार्यक्रम के कोआर्डिनेटर डॉ. सुजीत महोबिया ने डॉ. शिल्पा सक्सेना, रूपेश कुशवाह एवं सभी महानुभावों को धन्यवाद ज्ञापित किया एवं बताया कि आगे भी इस प्रकार के कार्यक्रम हमारे स्कूल के विद्यार्थियों के लिये जारी रहेंगे, आज के कार्यक्रम की रिकार्डिंग यू-टूयूब पर उपलब्ध है। विद्यार्थीगण हमेशा इसका लाभ ले सकते है।

कार्यक्रम के सफल आयोजन में टेक्निकल टीम तनिष्क, श्रेया, शुभम, आदन्त अग्रवाल की भूमिका रही एवं कंट्रोल रूम में डॉ. रूचि निगम, डॉ. भावना सिंग, डॉ. दुर्गेश नंदिनी उपस्थित रही।