भारत-चीन के बीच 7वें दौर की बातचीत जल्द - eagle news

Breaking

भारत-चीन के बीच 7वें दौर की बातचीत जल्द


नई दिल्ली। भारतीय और चीनी सैन्य कमांडरों को सेक्टर में तनाव को कम करने के लिए सातवें दौर की वार्ता के लिए 12 अक्टूबर को लद्दाख में मिलने के लिए निर्धारित किया गया है, लेकिन पीपुल्स लिबरेशन आर्मी पीएलए की ओर से कोई अच्छे संकेत नहीं दिख रहे हैं। सेना की तैनाती वास्तविक नियंत्रण रेखा पर अपनी स्थिति का बचाव करने के लिए कंटेनर और हिमपात के टेंटों को रिगलाइन पर खड़ा करना ये दिखाता है। सरकारी अधिकारियों के अनुसार, पीएलए ने सर्दियों के लिए खुदाई की है, प्रत्येक कंटेनर में कुछ चार से छह सैनिकों को शामिल किया गया है, और हाई अल्टीट्यूड से बीमार होने पर गहराई वाले क्षेत्रों में नई अस्पताल सुविधाएं दी हैं। लद्दाख सीमा पर चल रहे वर्तमान तनाव के बीच चीन ने इन नवनिर्मित स्थायी बैरकों का तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र टीएआर में पीएलए के सैनिकों के लिए निर्माण किया है। यह संभवत: पहली बार उन सैटेलाइट तस्वीरों की पुष्टि है, जो इस साल की शुरुआत में सामने आई थीं। उन तस्वीरों में नगारी क्षेत्र की वास्तविक नियंत्रण रेखा एलएसी के पास बड़े पैमाने पर निर्माण की गतिविधियों को देखा जा सकता था।हालांकि, सीमा पर कितने चीनी सैनिकों की मौजूदगी है, भले ही इसका सही जवाब नहीं मिल सका हो। लेकिन, रिपोर्ट्स और तस्वीरों को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि चीनी सैनिक बड़ी संख्या में मौजूद हैं। ये बैरक 1962 के भारत-चीन युद्ध के प्राथमिक युद्ध मोर्चों के करीब 15000 फीट की ऊंचाई पर स्थित हैं।