तेजस्वी ने सीएम नीतीश के सुशासन के दावे को दी चुनौती - eagle news

Breaking

तेजस्वी ने सीएम नीतीश के सुशासन के दावे को दी चुनौती


बिहार विधानसभा चुनाव के पहले बिहार में नेता प्रतिपक्ष और राजद के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव लगातार नीतीश सरकार पर हमला कर रहे हैं। कोरोना, बाढ़, बेरोजगारी और युवाओं से जुड़े मुद्दे पर लगातार नीतीश सरकार से सवाल पूछ रहे हैं। रविवार की सुबह उन्होंने एक बार फिर नीतीश सरकार पर हमला बोला है। इस बार उन्होंने नीतीश के बिहार में सुशासन के दावे पर सवाल खड़े किए हैं। 

तेजस्वी ने बिहार में सुशासन के दावे पर मुख्यमंत्री नीतीश को सीधे चुनौती देते हुए कहा कि प्रदेश के किसी भी थाने और ब्लॉक मे बिना चढ़ावे के कोई काम नहीं होता। नेता प्रतिपक्ष ने सोशल मीडिया पर एक विडियो शेयर करते हुए लिखा कि - मैं माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी को चुनौती देता हूँ कि वो बिहार के एक ऐसे थाना एवं ब्लॉक का नाम बता दें जहां बिना सुशासनी चढ़ावे के आम जनता का कोई काम होता हो? कोई शक हो अथवा यक़ीन ना हो तो भेष बदल कर मेरे साथ चले, दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। बोलिए क्या स्वीकार है?

इससे एक दिन पहले ही तेजस्वी ने बेरोजगारी को सबसे बड़ा मुद्दा बताया था। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा है कि बेरोजगारी बड़ा मुद्दा है। हर जात धर्म के युवा सरकार प्रदत्त बेरोजगारी से तंग हैं। बिहार के युवा इस बार विकास, अच्छी शिक्षा, चिकित्सा, विधि व्यवस्था और रोजगार के मुद्दे पर युवा सरकार चुनेंगे। वह सरकार जो युवाओं के सपनों आकांक्षाओं और अपेक्षाओं को पूरा करना जानती है।

बेरोजगारी को चुनावी मुद्दा बनाकर तेजस्वी ने लांच की वेबसाइट
राजद नेता ने शुरू में ही ये साफ कर दिया था कि पार्टी इस बार बेरोजगारी और युवाओं से जुड़े मुद्दे को चुनावी इशुज बनाएगी। इसके लिए तेजस्वी ने राष्ट्रीय जनता दल(RJD) की ओर से बेरोजगारी हटाओ वेबसाइट और एक हेल्पलाइन नंबर भी लांच किया है। तेजस्वी यादव ने वेबसाइट लांच करते हुए एक टोल फ्री नंबर 9334302020 भी जारी किया है। उन्होंने वेबसाइट और हेल्पलाइन नंबर जारी करते हुए कहा कि कोई भी बेरोजगारी से समस्या से संबधित युवा संपर्क कर सकता है। 

इस दौरान तेजस्वी ने बिहार समेत देश भर में नौकरियों की कमी को लेकर चिंता राज्य और देश का युवा बेरोजगारी को लेकर परेशान है लेकिन सरकार वैकेंसी नहीं भर रही है। बिहार में वैकेंसी होने के बावजूद सरकारी नौकरी में आने का अवसर युवाओं को नहीं दिया गया है। उन्होंने कहा कि एक्सपर्ट से बेरोजगारी के मुद्दे पर बातचीत हुई है और जल्द ही इसको लेकर ब्लू प्रिंट सामने लाएंगे।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर भी बेरोजगारी से जुड़ा मुद्दा काफी ट्रेंड किया था। युवाओं ने पीएम मोदी के जन्मदिन के दिन बेरोजगार दिवस के रूम में मनाया था।