यूएनजीए में कोविड, व्यापार, मानवाधिकार को लेकर अमेरिका-चीन में भिड़ंत - eagle news

Breaking

यूएनजीए में कोविड, व्यापार, मानवाधिकार को लेकर अमेरिका-चीन में भिड़ंत


बीजिंग के साथ पहले से जारी तल्खी भरे सबंधों के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन पर बड़ा हमला बोलते हुए मंगलवार को उसे दुनिया में कोविड-19 महामारी फैलाने का कसूवार ठहराया। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र से अनुरोध किया है कि दुनियाभर में इस महामारी को छोड़ने के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराया जाए।

वैश्विक नेताओं को संयुक्त राष्ट्र की पहले वर्चुअल बैठक को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीनी सरकार और विश्व स्वास्थ्य संगठन पर यह झूठा ऐलान करने का आरोप लगाया कि इससे मानव से मानव में सार्स-कोव-2 का संक्रमण नहीं होता है। उन्होंने यह भी कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन को वर्चुअली चीन के द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

75वीं संयुक्त राष्ट्र महासभा सत्र को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, “कोरोना महामारी की शुरुआत में चीन ने केवल घरेलू यात्रा पर रोक लगाई जबकि पूरे विश्व को संक्रमित करने के लिए अंतराष्ट्रीय उड़ानों का संचालन जारी रखा। सयुक्त राष्ट्र को इस मामले में चीन को निश्चित तौर पर जवाबदेह ठहराना चाहिए।"


अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के इस कड़े बयान का जवाब देते हुए चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा कि चीन का किसी भी देश के साथ कोल्ड या हॉट वार लड़ने का कोई इरादा नहीं है। उन्होंने कहा, 'देशों को एकपक्षीय और संरक्षणवाद के लिए नहीं कहना चाहिए और वैश्विक औद्योगिक तथा आपूर्ति श्रृंखलाओं के स्थिर और सुचारू संचालन को सुनिश्चित करने के लिए काम करना चाहिए।'

उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी की शुरुआत से अमेरिका और चीन के बीच रिश्तों ने बड़ी तेजी से करवट ली है और श्री ट्रंप ने लगातार कोरोना महामारी को लेकर चीन पर प्रमुखता से हमला किया हैं। कोरोना से विश्वभर में अब तक 3,12,45,797 लोग संक्रमित हुए हैं और 9,63,693 लोगों की मौत हुई है।

वही वैश्विक महाशक्ति माने जाने वाले अमेरिका में कोरोना से संक्रमित होने वालों की संख्या 68,56,884 पर पहुंच गई है और अब तक 1,99,865 लोगों की जान जा चुकी है। अमेरिका पूरे विश्व में कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित होने वाला देश हैं।