आबकारी की टीम पहुंची ग्रामीण अंचलों पर लेकिन अवैध शराब तो प्राप्त हुई मगर शराब तस्कर तक इनके हाथ नहीं पहुंच सके.....आखिर क्यों...?...पढ़े पूरी खबर - eaglenews24x7

Breaking


आबकारी की टीम पहुंची ग्रामीण अंचलों पर लेकिन अवैध शराब तो प्राप्त हुई मगर शराब तस्कर तक इनके हाथ नहीं पहुंच सके.....आखिर क्यों...?...पढ़े पूरी खबर

आबकारी की टीम पहुंची ग्रामीण अंचलों पर लेकिन अवैध शराब तो प्राप्त हुई मगर शराब तस्कर तक इनके हाथ नहीं पहुंच सके.....

जबलपुर।।आबकारी विभाग ने ग्रामीण इलाकों में अवैध रूप से बनाई जा रही कच्ची शराब के दो ठिकानों पर दबिश देते हुए बड़ी मात्रा में लाहन को नष्ट किया है प्राप्त जानकारी के अनुसार आबकारी विभाग को विश्वासनीय मुखबिर से यह जानकारी मिली थी कि जिले से सटे ग्रामीण अंचल के सिलुआ घाट और छतरपुर क्षेत्र में अवैध रूप से कच्ची शराब बनाने का काम किया जा रहा है.....

सूचना पर त्वरित कार्यवाही करते हुए कंट्रोल रूम प्रभारी जी.एल मरावी ने एक दल गठित किया और तत्काल मौका ए वारदात पर दबिश देते हुए भारी मात्रा में कच्ची शराब और लाहन का विनिस्टीकरण किया गया। 

कार्यवाही के दौरान सिलुआ घाट में नर्मदा नदी के किनारे भारी मात्रा में अवैध कच्ची शराब के निर्माण का कार्य संचालित हो रहा था जहां झाड़ियों में छुपा कर रखी गए सात से आठ ड्रम महुआ लाहन को बरामद किया गया कार्यवाही के दौरान लाहन का सैंपल लेते हुए उसे नष्ट करने की कार्यवाही की गई।

वही छतरपुर में कच्ची शराब निर्माण स्थल पर दबिश देते हुए 8 ड्राम महुआ लाहन एवं 25 लीटर कच्ची शराब को जप्त किया गया।आबकारी विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार दबिश के दौरान तकरीबन 8000 किलो ग्राम महुआ लाहन को सैंपल लेने के बाद नष्ट किया गया वही 25 लीटर कच्ची शराब को भी जप्त किया गया।वहीं अब आबकारी विभाग इस अवैध कच्ची शराब के निर्माण से जुड़े लोगों की पतासाजी में जुट गया है...


संपादक की कलम से:-एक विशेष बात आबकारी विभाग की हम जितनी तारीफ में करें उतनी ही कम है क्योंकि अधिकतर मामलों में इनके हाथ अवैध शराब निर्माण की जगह तक पहुंच तो जाते हैं लेकिन सबसे खास बात तो यह है कि वह आरोपी पकड़े क्यों नहीं जाते और कैसे उन्हें भनक पड़ जाती है की आबकारी विभाग का उनके यहां पर छापा पड़ने वाला है....? यह विषय चिंताजनक है....