मद्य निषेध सप्ताह के अंतर्गत नशा मुक्ति जागरूकता कार्यक्रम - eagle news

Breaking

मद्य निषेध सप्ताह के अंतर्गत नशा मुक्ति जागरूकता कार्यक्रम


जबलपुर, भारत सरकार, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय द्वारा नशामुक्त भारत अभियान प्रारंभ किया गया है। भारत सरकार संस्कृति मंत्रालय द्वारा गांधी जी की 150वीं वर्षगांठ को 2 वर्ष तक विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से मनाए जाने का उल्लेख करते हुए 2 अक्टूबर को वृहद स्वरूप में आयोजन करने हेतु निर्देश दिए गए हैं, जिसके अंतर्गत उप महानिरीक्षक जबलपुर रेंज (प्रभारी) एवं जेल अधीक्षक गोपाल प्रसाद ताम्रकार के मार्गदर्शन में 2 अक्टूबर से 8 अक्टूबर तक मद्म निषेध सप्ताह का आयोजन किया गया। जिसके अंतर्गत जेल में भिन्न-भिन्न कार्यक्रमों द्वारा बंदियों को मद्म निषेध एवं नशा मुक्ति हेतु जागरूक किया गया। बंदियों को जागरूक करने हेतु जेल चिकित्सा अधिकारी महेन्द्र भट्ट द्वारा बंदियों को मार्गदर्शन दिया गया। वहीं जेल चिकित्सक लक्ष्मण शाह द्वारा अधिकारियों, कर्मचारियों एवं बंदियों को नशे से दूर रहने एवं नशा मुक्त समाज के निर्माण में सहयोग प्रदान करने हेतु शपथ दिलवाई गई। चित्र प्रदर्शनी द्वारा नशे के भयावह दुष्परिणामों से अवगत करवाया गया तथा महिला बंदियों के बीच भी नशा मुक्ति संदेश कल्याण अधिकारी सरिता घारू द्वारा दिया गया। तेज सिंह ठाकुर मनोवैज्ञानिक परामर्शदाता केन्द्रीय जेल जबलपुर द्वारा नशे से होने वाले दुष्परिणामों के बारे में अवगत कराया गया साथ ही पीजन पियर मोबलाईजर नीतेश लखेरा के सहयोग से नशा मुक्ति हेतु जागरुक किया गया।

जेल अधीक्षक गोपाल प्रसाद ताम्रकार द्वारा समस्त बंदियों को संबोधित करते हुए नशा मुक्ति हेतु जागरूक किया गया तथा महात्मा गांधी जी के दो प्रमुख उपदेश अहिंसा एवं मद्म निषेध के लिए प्रेरित किया गया, तत्पश्चात दिव्या अवस्थी अनुविभागीय अधिकारी द्वारा जेल परिरूद्ध बंदियों को कोरोना एवं मद्म निषेध सप्ताह के विषय में विस्तार पूर्वक बताया गया।

इस आयोजन में नोबल कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी से बचाव संबंधी शासन द्वारा गाईड लाईन का पालन किया गया। मास्क का प्रयोग एवं सामाजिक दूरी बनाकर कार्यक्रम संपन्न करवाया गया।