राष्ट्रीय समुद्री दिवस के दिन जलमार्ग मंत्री ने बताया,2070 से पहले मोदी का देखा यह सपना... - eaglenews24x7

Breaking


राष्ट्रीय समुद्री दिवस के दिन जलमार्ग मंत्री ने बताया,2070 से पहले मोदी का देखा यह सपना...

राष्ट्रीय समुद्री दिवस के दिन जलमार्ग मंत्री ने बताया,2070 से पहले मोदी का देखा यह सपना...

विक्की झा।।5 अप्रैल को पूरे भारत में"राष्ट्रीय समुद्री दिवस"(National Maritime Day) के रूप में मनाया जाता है। हर वर्ष भारत में यह दिन समुंदर के रास्तों में हो रहे अविष्कार और तकनीकी विस्तार का जश्न मनाने के लिए मनाया जाता है।भारत द्वारा राष्ट्रीय समुद्री दिवस 1964 में पहली बार मनाया गया था,पर इसकी शुरुआत 1919 को 5 अप्रैल के दिन ही हो गई थी,जहां भारत ने पहली बार भारत में बनी जहाज को सुरक्षित प्रशिक्षण होने के बाद लंदन भेजा था। 


इस दिन की याद में ही भारत के समुद्री व्यापार एवं आवागमन की गतिविधियों के महत्व के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए ही,पूरे भारत में राष्ट्रीय समुद्री दिवस मनाया जाता है।5 अप्रैल 2022 के दिन राष्ट्रीय समुद्री दिवस की शुभकामना देते हुए,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि,"पिछले 8 वर्षों ने समुंद्र के क्षेत्र में भारत ने कई सारी नई उपलब्धियां हासिल की है,जहां अब हम समुंद्री हथियारों से लेकर समुद्री व्यापार सुचारू रूप से संपन्न करने में हर तरीके से संभव और संपूर्ण हो पाए हैं।"

नरेंद्र मोदी के साथ-साथ भारत के कई राजनेता आज राष्ट्रीय समुद्री दिवस के दिन मर्चेंट नेवी को और समुद्री व्यापार करने वाले एवं समस्त भारतीयों को खूब सारी शुभकामना देते दिखाई दिए।5 अप्रैल का यह दिन इतिहास में भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास की एक झलक मात्र है,इस दिन को मना कर,हमें भारत में समुद्री व्यापार की भूमिका और वैश्विक व्यापार में भारत की भूमिका भली-भांति समझ आ जाती है।


सभी समुद्री व्यापारियों और सिपाहियों के हौसला अफजाई करने के लिए नई दिल्ली में समुद्री जागरूकता के भव्य कार्यक्रम का आयोजन राष्ट्रीय समुद्री दिवस के दिन किया गया।जहां केंद्र तथा समुद्र से जुड़े कई सारे मंत्री और सेनागण जैसे केंद्रीय बंदरगाह,नौवहन और जलमार्ग मंत्री एस सोनेवाले मौजूद हो कार्यक्रम में हिस्सा लेते दिखाई दिए।

मीडिया द्वारा हुई बातचीत में जलमार्ग मंत्री एस सोनेवाले ने कहा कि,हमारे शिपिंग उद्योगों ने कोविड जैसी कठिन परिस्थिति में सेवा देने में सफलता प्राप्त की है।उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने जो कार्बन उत्सर्जन को 2070 तक शून्य करने का लक्ष्य रखा है,उसके लिए हमारा मंत्रालय काम कर रहा है।हम मोदी जी के हौसले का सम्मान करते हुए उनको पूर्ण सहयोग देने का और उनके बताए हर काम को समय से पहले पूर्ण करने का आश्वासन देते हैं।

देश के विकास और आयात निर्यात में समुंदर के रास्तों का बहुत बड़ा योगदान है,ऐसे में 2070 तक कार्बन उत्सर्जन को सुन्न करने का लक्ष्य भारत के कितने काम आएगा,यह तो वक्त ही बताएगा।राष्ट्रीय समुद्री दिवस के दिन कई सारी नई समुद्री अविष्कारों के आने की घोषणा स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट के द्वारा कर दी है।समुंदर में हो रहे आविष्कार और नई तकनीकों से भारत कितना समृद्ध और शक्तिशाली बनेगा यह देखना काफी दिलचस्प होगा।